Type Here to Get Search Results !

प्रदुषण: सबसे ज्यादा जहरीली है नोएडा की हवा

0


अभी थोड़े दिन पहले ही वायु प्रदूषण से हमें राहत मिली थी लेकिन फिर वायु प्रदूषण के प्रकोप को हमें झेलना पड़ रहा है।इसी बीच एक रिपोर्ट सामने आई है जिसमें पता चला है कि एनसीआर में नोएडा की हवा सबसे ज्यादा प्रदूषित है।रिपोर्ट में नोएडा की हवा को सबसे ज्यादा जहरीला बताया गया है।


आफत की बात तो यह है की बुधवार को वायु की गुणवत्ता सूचकांक 470 दर्ज किया गया था। प्रदूषण को रोकने के प्राधिकरण और प्रशासन के सारे दावे फेल हो गए। अगर गुणवत्ता की बात की जाए तो फरीदाबाद का वायु गुणवत्ता सूचकांक 446, गुरुग्राम का 447, दिल्ली का 456, ग्रेनो का 462, गाजियाबाद का 467 और अंत में नोएडा का 470 जो की सबसे ज्यादा है।


शहर में सुबह से ही धूल की चादर छाई हुई थी। लोगों को उम्मीद थी कि दोपहर को थोड़ी सी राहत मिलेगी पर दोपहर से लेकर शाम तक यही स्थिति रही। कई जगह तो एक्यूआई 480 तक दर्ज किया गया।अस्पतालों में सांस रोगियों तथा बच्चों की आंखों में एलर्जी की शिकायत काफी आ रही है।


जिला प्रशासन के दावे के बाद भी प्रदूषण का स्तर पांचवें दिन भी बढ़ा रहा। आपको बता दें दिल्ली एनसीआर में वायु की गुणवत्ता की हालत खतरनाक स्तर पर है नोएडा में वायु की गुणवत्ता का बेहद खराब होना तीन कारण से हो सकता है पहला कारण है जाम और भवन का निर्माण। दूसरा कारण है आग और कूड़ा जलाना और तीसरा कारण है हवा की गति धीमी।


हवा की गति धीमी होने का मतलब है की ठंड के कारण धूलकणों और धुआँ आसमान में अधिक दूर तक नहीं जा पाते। इससे वायु प्रदूषण का प्रभाव काफी हद तक बढ़ जाता है।


प्रशासन ने प्रदूषण से बचने के लिए कई तरह के हथकंडे अपनाए उन्होंने भवन निर्माण और ईट भट्टे पर रोक लगा दी तथा सड़कों पर भी पानी का छिड़काव करवाया साथ के साथ जो भी वायु प्रदूषण फैलाने का काम करेगा उस पर जुर्माना ठोका जाएगा।


Post a Comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad