Type Here to Get Search Results !

कोरोना वायरस के संकट के बीच भारतीयों को लगा एक और झटका

0

कोरोना वायरस की वजह से दुनियाभर की अर्थव्‍यवस्‍था चौपट हो रही है। आपको बता दे की इसी बीच भारत में आम लोगों पर महंगाई की मार पड़ गयी है। क्योंकि शनिवार को कुछ ऐसे ऐलान हुए हैं जिसके बाद मोबाइल फोन से लेकर पेट्रोल-डीजल तक महंगा होगा। 


आपको बता दे की आने वाले वक्‍त में मोबाइल फोन महंगा हो जाएगा क्योंकि जीएसटी काउंसिल की उन्तालीसवीं बैठक में मोबाइल फोन को 18 फीसदी के टैक्‍स स्‍लैब में शामिल कर दिया गया है।जबकि इससे पहले ये 12 फीसदी के स्‍लैब में था।


इसी वजह से मोबाइल फोन पर टैक्‍स में 6 फीसदी की बढ़ोतरी हो चुकी है। इस कारण मोबाइल फोन खरीदना पहले के मुकाबले अब महंगा हो जाएगा। ये नई दरें 1 अप्रैल 2020 से प्रभावी होंगी। 


ये आम लोगों के लिए कोरोना जैसे किसी झटके से कम नहीं है। कोरोना वायरस की कारण से पहले ही इसकी कीमत में तेजी आने की सम्भावना है। बता दें कि चीन से सप्लाई प्रभावित होने के कारण बहुत सारे ब्रांड के मोबाइल फोन महंगे हो रहे हैं। 


पेट्रोल-डीज़ल के भी दाम बढ़ें  


यही नहीं सरकार ने पेट्रोल, डीजल पर उत्पाद शुल्क में प्रति लीटर तीन रुपये की वृद्धि कर दी है। केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर एवं सीमा शुल्क बोर्ड की ओर से जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक पेट्रोल पर विशेष उत्पाद शुल्क 2 रुपये बढ़ाकर 8 रुपये प्रति लीटर कर दिया गया है। 


वहीं डीजल पर यह शुल्क दो रुपये बढ़कर अब चार रुपये प्रति लीटर हो गया है। इसके अलावा भी पेट्रोल और डीजल पर लगने वाला रोड सेस भी एक-एक रुपये प्रति लीटर बढ़ाकर 10 रुपये प्रति लीटर कर दिया गया है। 


इन बढ़ोतरी के बाद पेट्रोल पर अब सेस सहित हर तरह का उत्पाद शुल्क 22.98 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 18.83 रुपये प्रति लीटर हो गया है। 


माचिस के सस्‍ते होने की उम्‍मीद है


लेकिन माचिस के सस्‍ते होने की उम्‍मीद है। क्योंकि अब माचिस पर 12 फीसदी का जीएसटी लगेगा। पहले हाथ से बनाए गए माचिस पर 5 फीसदी और मशीन से बनाए गए माचिस पर 18 फीसदी का टैक्स लगता था। 


इतना ही नहीं एयरक्राफ्ट के मेंटेनेंस, रिपेयर एंड ओवरहॉल (MRO) सर्विस पर जीएसटी की दर में कटौती की गई है। पहले ये 18 फीसदी के स्‍लैब में आता था, जो अब घटाकर 5 फीसदी हो गया है। 


Post a Comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad