Type Here to Get Search Results !

Chaitra Navratri 2020: तृतीया पर होती है मां चंद्रघंटा की पूजा, जानिए पूजा विधि, आरती व मंत्र

0


आज नवरात्र का तीसरा दिन है। आज माँ चंद्रघंटा की पूजा की जाती है। माँ चंद्रघंटा देवी दुर्गा की तीसरी स्वरुप हैं । चूँकि उनके पास एक घण्टी के आकार में एक चन्द्र या आधा चाँद है, उनके माथे पर इसलिए उन्हें चंद्रघंटा के रूप में संबोधित किया जाता है। शांति और समृद्धि का प्रतीक, मां चंद्रघंटा की तीन आंखें और दस हाथ हैं, जिनमें दस प्रकार की तलवारें, हथियार और तीर हैं। वह न्याय स्थापित करती है और अपने भक्तों को चुनौतियों से लड़ने के लिए साहस और शक्ति देती है।


उनकी उपस्थिति शक्ति का स्रोत हो सकती है जो हमेशा बुरे और दुष्टों को मारने और दबाने में व्यस्त रहती है। हालांकि, अपने भक्तों के लिए, माँ शांत, कोमल और शांतिपूर्ण है। माँ चंद्रघंटा की आराधना करने से, आप बहुत सम्मान, प्रसिद्धि और महिमा के द्वार खोलेंगे। माँ आपको आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करने में भी मदद करती है। उसकी मूर्ति, जो सौंदर्य और बहादुरी दोनों का प्रतीक है, आपको नकारात्मक ऊर्जा को दूर रखने की शक्ति देती है और आपके जीवन से सभी परेशानियों को दूर करती है।


पूजा विधि जानिये 


चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को सूर्योदय से पूर्व मां चंद्रघण्टा की पूजा करना श्रेष्ठ माना जाता है। आप सूर्योदय से पूर्व स्नान आदि से निवृत्त हो जाएं। अब मां चंद्रघण्टा का स्मरण करके उनका ध्यान करें। उनको सिंदूर, अक्षत्, गंध, धूप, पुष्प, श्रृंगार का सामान आदि अर्पित करें। फिर दूध से बने मिष्ठान या पकवान का भोग लगाना चाहिए। पूजा के दौरान ऊपर दिए गए मंत्रों का जाप करें। अब मां चंद्रघण्टा की आरती करें। इसके पश्चात आप दुर्गा चालीसा का पाठ और मां दुर्गा की आरती करें। माता को लगाए गए भोग को प्रसाद स्वरूप लोगों में वितरित कर दें।


मंत्र 


ॐ देवी चन्द्रघण्टायै नमः॥

प्रार्थना   


पिण्डज प्रवरारूढा चण्डकोपास्त्रकैर्युता।
प्रसादं तनुते मह्यम् चन्द्रघण्टेति विश्रुता॥


स्तुति 


या देवी सर्वभू‍तेषु माँ चन्द्रघण्टा रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः॥


ध्यान  


वन्दे वाञ्छितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम्।
सिंहारूढा चन्द्रघण्टा यशस्विनीम्॥
मणिपुर स्थिताम् तृतीय दुर्गा त्रिनेत्राम्।
खङ्ग, गदा, त्रिशूल, चापशर, पद्म कमण्डलु माला वराभीतकराम्॥
पटाम्बर परिधानां मृदुहास्या नानालङ्कार भूषिताम्।
मञ्जीर, हार, केयूर, किङ्किणि, रत्नकुण्डल मण्डिताम॥
प्रफुल्ल वन्दना बिबाधारा कान्त कपोलाम् तुगम् कुचाम्।
कमनीयां लावण्यां क्षीणकटि नितम्बनीम्॥


स्तोत्र  


आपदुध्दारिणी त्वंहि आद्या शक्तिः शुभपराम्।
अणिमादि सिद्धिदात्री चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यहम्॥
चन्द्रमुखी इष्ट दात्री इष्टम् मन्त्र स्वरूपिणीम्।
धनदात्री, आनन्ददात्री चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यहम्॥
नानारूपधारिणी इच्छामयी ऐश्वर्यदायिनीम्।
सौभाग्यारोग्यदायिनी चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यहम्॥


कवच 


रहस्यम् शृणु वक्ष्यामि शैवेशी कमलानने।
श्री चन्द्रघण्टास्य कवचम् सर्वसिद्धिदायकम्॥
बिना न्यासम् बिना विनियोगम् बिना शापोध्दा बिना होमम्।
स्नानम् शौचादि नास्ति श्रद्धामात्रेण सिद्धिदाम॥
कुशिष्याम् कुटिलाय वञ्चकाय निन्दकाय च।
न दातव्यम् न दातव्यम् न दातव्यम् कदाचितम्॥

आरती 


जय माँ चन्द्रघण्टा सुख धाम। पूर्ण कीजो मेरे काम॥
चन्द्र समाज तू शीतल दाती। चन्द्र तेज किरणों में समाती॥
मन की मालक मन भाती हो। चन्द्रघण्टा तुम वर दाती हो॥
सुन्दर भाव को लाने वाली। हर संकट में बचाने वाली॥
हर बुधवार को तुझे ध्याये। श्रद्दा सहित तो विनय सुनाए॥
मूर्ति चन्द्र आकार बनाए। शीश झुका कहे मन की बाता॥
पूर्ण आस करो जगत दाता। कांचीपुर स्थान तुम्हारा॥
कर्नाटिका में मान तुम्हारा। नाम तेरा रटू महारानी॥
भक्त की रक्षा करो भवानी।


Post a comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad