Type Here to Get Search Results !

सुप्रीम कोर्ट ने कहा - 50 फीसदी से ज्यादा आरक्षण की इजाजत नहीं, 100% आरक्षण की मांग है समझ से बाहर

0


ओबीसी और एससी / एसटी के अंदर की चिंताओं पर प्रकाश डालते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आरक्षण का लाभ आम तौर पर उनके बीच नहीं आता है। दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को आंध्र प्रदेश के राज्यपाल के लिए नियोजित आदिवासी जगहों के स्कूलों में शिक्षकों के शत-प्रतिशत पदों को आरक्षित रखने के जनवरी 2000 के अनुरोध को ठुकरा दिया। अदालत ने कहा कि यह 'मनमाना' है और संविधान के तहत इसकी अनुमति नहीं है। न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली पांच-स्तरीय संविधान पीठ ने अपने फैसले में कहा कि यह 100 प्रतिशत आरक्षण देने के लिए 'आउट ऑफ लाइन' होगा और कोई भी कानून यह अनुमति नहीं देता है कि आदिवासीे इलाके में सिर्फ  शिक्षक ही पढ़ाये।


संविधान पीठ ने 1992 के इंदिरा साहनी के फैसले पर अपना फैसला सुनाया। पीठ ने कहा कि इस फैसले में सर्वोत्तम अदालत ने जोर देकर कहा था कि संविधान के रचनाकारों ने कभी नहीं सोचा था कि सभी स्थानों के लिए आरक्षण होगा। संविधान की सीट से अलग-अलग व्यक्तियों में जस्टिस इंदिरा बनर्जी, जस्टिस विनीत सरन, जस्टिस एमआर शाह और जस्टिस अनिरुद्ध बोस शामिल थे।


पीठ ने कहा कि 1992 के फैसले से संकेत मिलता है कि आरक्षण को केवल अनूठे मामलों में 50 प्रतिशत की सीमा से परे रखा जा सकता है, फिर भी इसमें सावधान रहना चाहिए। पीठ ने कहा, "सूचित क्षेत्रों में 100 प्रतिशत आरक्षण को समायोजित करने के लिए कोई उत्कृष्ट स्थिति नहीं थी। यह एक हास्यास्पद विचार है कि आदिवासियों को आदिवासियों द्वारा विशिष्ट रूप से पढ़ाया जाना चाहिए। यह समझ में नहीं आता है कि जब अन्य स्थानीय निवासी होते हैं तो वे क्यों नहीं पढ़ा सकते हैं।" 


स्वास्थ्यकर्मियों पर हमले को लेकर सरकार हुई सख्त, दोषी को होगी अब सात साल तक की सजा


पीठ ने कहा कि यह गतिविधि बिना तर्क की है और मनमाना है। 100 प्रतिशत आरक्षण देकर वैधता को नकारा नहीं जा सकता। सीट ने कहा कि 100 प्रतिशत आरक्षण देने का अनुरोध विवेकाधीन, अवैध और गैरकानूनी है। सीट ने अपने 152-पृष्ठ के फैसले में कहा कि स्वायत्तता को पूरा करने के 72 वर्षों से अधिक समय के बावजूद, हमारे पास इस लाभ को आम जनता की निचली परतों यानी बोझ वाले खंड तक ले जाने का विकल्प नहीं है। इसके अतिरिक्त यह भी उल्लेख किया गया है कि 1986 में तत्कालीन आंध्र प्रदेश सरकार ने एक तुलनात्मक अनुरोध प्रदान किया था जिसे राज्य प्रशासनिक न्यायाधिकरण ने अस्वीकार कर दिया था।


अधिकरण के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर की गई थी, फिर भी इसे 1998 में वापस ले लिया गया था। पीठ ने कहा कि साज़िश वापस लेने के बाद, यह सामान्य था कि तत्कालीन आंध्र प्रदेश 100 प्रतिशत आरक्षण देने की गतिविधि पर पुनर्विचार नहीं करेगा।


पीठ ने कहा कि असामान्य स्थितियों को ध्यान में रखते हुए, हम पूर्वापेक्षा पर निर्भर व्यवस्था को सुरक्षा प्रदान कर रहे हैं कि आंध्र प्रदेश और तेलंगाना भविष्य में फिर से ऐसा नहीं करेंगे यदि वे ऐसा करें तो 1986 के बाद के नियुक्तियों का सरंक्षण संभव नहीं है। अदालत ने अतिरिक्त रूप से इस साज़िश पर पांच लाख रुपये की सज़ा दी, जिसे आंध्र प्रदेश और तेलंगाना को समान रूप से लागू करना होगा।


हमारे दिखाए न्यूज़ से अगर आपको कोई आपत्ति है तो हमे मैसेज कर सकते है। 


इंस्टाग्राम : ambebharti.page


फेसबुक  : ambebharti


मेल आईडी:ambebharti@gmail.com    


फेसबुक पर हमें फॉलो करिये और पाइये लेटेस्ट न्यूज़। इंस्टाग्राम पर पाइये हर रोज़ शार्ट न्यूज़।


Post a Comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad