Type Here to Get Search Results !

भारतीय बल्लेबाज टीम के लिए नहीं, खुद के लिए खेले: इंजमाम-उल-हक

0


पाकिस्तान के पूर्व कप्तान और मुख्य चयनकर्ता इंजमाम-उल-हक ने कहा कि उनके खेलने के दिनों में पाकिस्तान और भारत के बीच अंतर यह था कि भारतीय बल्लेबाज टीम में अपनी जगह पक्की करने के लिए खेल रहे थे, जबकि पाकिस्तान के बल्लेबाज टीम के लिए खेलते थे किसी व्यक्तिगत रिकॉर्ड के लिए नहीं। क्योंकि उन पर हमेशा उनके कप्तान का होता था, खासकर इमरान खान के समय।


इंजमाम YouTube चैनल पर एक टॉक शो के दौरान पाकिस्तान टीम के पूर्व साथी रमिज़ राजा से बात कर रहे थे। रमिज़ राजा ने पाकिस्तानी खिलाड़ियों की वर्तमान स्तिथि के बारे में पूछा कि उनके पास बड़ी प्राकृतिक प्रतिभा है, लेकिन कभी-कभी उन्हें असफलता से भी डर लगता है, जिससे टीम को अक्सर असंभव परिस्थितियों से अपना रास्ता निकालना पड़ता है।


इस पर प्रतिक्रिया देते हुए, इंजमाम ने कहा कि यदि खिलाड़ी श्रृंखला-दर-श्रृंखला इस आधार पर सोच रहे हैं, कि यदि वे एक मैच में सफल होते हैं, तो उनकी मैच में जगह होगी और यदि वे असफल हो जाते हैं, तो उन्हें हटा दिया जाएगा, वे कभी भी फिर अपनी सबसे अच्छी क्षमता से नहीं खेल पाएंगे ।


उन्होंने इस बारे में बात की कि कैसे इमरान खान खराब श्रृंखला के बाद खिलाड़ियों को कभी नहीं छोड़ेंगा और कैसे उन्हें फिर से बेहतर खेलने की अनुमति देगा।


उस बिंदु पर जोर देने की कोशिश करते हुए, उन्होंने भारत के साथ तुलना की।


"हमारे समय के दौरान, भारत की हमारे मुकाबले बहुत मजबूत बल्लेबाजी थी। बल्लेबाजों के रूप में हमारा रिकॉर्ड उनके मुकाबले नहीं था। लेकिन अगर हम में से एक ने भी 30-40 रन बनाए, तो हमने इसे टीम के लिए बनाया। उन्होंने आगे कहा, "अगर भारतीय खिलाड़ी ने शतक बनाया, यह टीम के लिए नहीं होगा। वह खुद के लिए खेल रहा होगा।"


उन्होंने कहा, "अब हमारे खिलाड़ी अपनी जगह खोने से डर रहे हैं। उन्हें लगता है कि अपनी पहचान बनाने के लिए उनके पास केवल एक या दो पारियां हैं, इसलिए उन्हें एहसास नहीं है कि टीम को क्या चाहिए।"


इंजमाम ने कहा, "इसीलिए, अगर कप्तान और कोच एक ही पेज पर हैं, तो वे खिलाड़ियों को टीम की ज़रूरतों के मुताबिक खेलने के लिए सुरक्षा और आत्मविश्वास दे सकते हैं।"


Post a Comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad