Type Here to Get Search Results !

भारत का एक और कमाल, ब्रह्मोस के बाद अब किया इस मिसाइल का टेस्ट

0


सशस्त्र बलों के लिए एक और अच्छी खबर, भारत ने बुधवार को ओडिशा के तट से एकीकृत परीक्षण रेंज (आईटीआर) चांदीपुर से पिनाका रॉकेट की विस्तारित रेंज का सफलतापूर्वक परीक्षण किया। इसने अब सफलतापूर्वक 45 किमी से आगे की रेंज को हासिल कर लिया है।


कुल छह रॉकेट लॉन्च किए गए थे जो लक्ष्य पर पहुंच गए और यह परीक्षण मिशन के उद्देश्यों को पूरा करते है। कम लंबाई के साथ पहले के डिजाइन की तुलना में लंबी रेंज के प्रदर्शन को प्राप्त करने के लिए इस नयी पिनाका प्रणाली का विकास किया गया था।


पिनाका रॉकेट का उन्नत संस्करण मौजूदा पिनाका एमके- I रॉकेटों की जगह लेगा जो अभी उत्पादन में हैं। रॉकेट को रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) द्वारा विकसित किया गया है और 4 नवंबर को इसका का परीक्षण किया गया था।


डिजाइन और विकास पुणे स्थित डीआरडीओ प्रयोगशालाओं, अर्थात् आयुध अनुसंधान और विकास प्रतिष्ठान, एआरडीई और उच्च ऊर्जा सामग्री अनुसंधान प्रयोगशाला, एचईएमआरएल द्वारा किया गया है।


परीक्षण किए गए रॉकेटों का निर्माण मेसर्स इकोनॉमिक एक्सप्लोसिव्स लिमिटेड, नागपुर द्वारा किया गया है, जिन्हें तकनीक हस्तांतरित कर दी गई है। 


सूत्रों ने कहा 19 अक्टूबर को, भारत ने ओडिशा के तट से स्टैंड-ऑफ एंटी-टैंक (सैंट) मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया था। रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा भारतीय वायु सेना के लिए विकसित की गई सैंट मिसाइल में लॉक-ऑन आफ्टर लॉन्च और लॉक-ऑन बिफोर लॉन्च क्षमता होगी।


भारत ने ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल के नौसैनिक संस्करण के सफल परीक्षण के एक दिन बाद ही सैंट मिसाइल दागी। ब्रह्मोस मिसाइल का परीक्षण रविवार को स्वदेशी रूप से विकसित भारतीय नौसेना के स्टील्थ विध्वंसक आईएनएस चेन्नई से किया गया। डीआरडीओ ने कहा कि ब्रह्मोस प्राइम स्ट्राइक हथियार ’के रूप में लंबी दूरी पर नौसेना की सतह के लक्ष्यों को पूरा करके आईएनएस चेन्नई की अजेयता सुनिश्चित करेगा। इसमें कहा गया है कि ब्रह्मोस के सफल परीक्षण से आईएनएस चेन्नई को भारतीय नौसेना का एक और घातक मंच बना दिया जाएगा।


विशेष रूप से, ब्रह्मोस को भारत और रूस द्वारा संयुक्त रूप से डिजाइन, विकसित और निर्मित किया गया है।


Post a comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad