लोग ज्यादा घबराये नहीं, नया कोरोना वायरस ज्यादा घातक नहीं - सरकार

NCI
0
Coronavirus New Strain

 
ब्रिटेन और अन्य जगहों पर एक नए प्रकार के कोरोनावायरस की खोज के बाद, NITI Aayog ने मंगलवार को कहा कि घबराने की कोई जरूरत नहीं है। NITI Aayog (स्वास्थ्य सदस्य) डॉ। वी.के. पॉल ने कहा कि कोरोना में इस परिवर्तन का मामले की गंभीरता और मौतों की संख्या पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। स्थानीय रूप से उत्पादित टीके के बारे में उन्होंने कहा कि यह टीके की प्रभावशीलता को प्रभावित नहीं करेगा।

उन्होंने कहा कि उन्हें कोरोना के नए रूप के बारे में चिंता करने की जरूरत नहीं है। घबराने की जरूरत नहीं। हमें बस सावधान रहना होगा। पॉल ने कहा कि उत्परिवर्तन के कारण बीमारी खराब नहीं हुई और इससे लोगों की मृत्यु प्रभावित नहीं हुई। म्यूटेशन के कारण वायरस के किसी अन्य व्यक्ति के शरीर में प्रवेश करने की क्षमता बढ़ गई है। इसे 70% अधिक संक्रामक बताया जा रहा है।

यूके में पाए गए कोरोनावायरस के नए रूप ने दुनिया भर के लोगों को चौंका दिया है। कोरोनावायरस की नई रेखा को पिछले वाले की तुलना में अधिक घातक माना जा रहा है, जो भारत में भी चिंता पैदा कर रहा है। इस श्रृंखला में, स्वास्थ्य विभाग ने यूके में कोरोनावायरस के एक नए रूप के आधार पर एक मानक संचालन प्रक्रिया (एसपीओ) जारी की है।

इस प्रकार, 25 से 8 दिसंबर तक, इंग्लैंड से भारत के यात्रियों को सरकारी मुख्यालय में हिरासत में रखा जायेगा अगर कोई  नया संक्रमण होता है तो। इसके अलावा, नमूनों को परीक्षण के लिए एनआईवी पुणे भेजा जाएगा। इतना ही नहीं, लेकिन अगर वायरस से संक्रमित किसी व्यक्ति में एक सामान्य कोरोनरी हृदय रोग पाया जाता है, तो इसे घर पर भी अलग किया जा सकता है। एसओपी के अनुसार, अगर इसमें एक नई कोरोना पाई जाती है, तो इसे सरकार से 14 दिनों के अलगाव से गुजरना होगा, और इसकी आभा की फिर से जांच की जाएगी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accepted !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top