Sharda University Assistant Professor Suspended: हिंदुत्व को नाज़ीवाद से समानता वाले प्रश्न पर छात्रों को आया गुस्सा

NCI
0

नोएडा: शारदा विश्वविद्यालय के एक सहायक प्रोफेसर को स्नातक छात्रों से मध्यावधि के राजनीति विज्ञान के पेपर में "आपत्तिजनक" प्रश्न के लिए शुक्रवार को निलंबित कर दिया गया। गुरुवार दोपहर को हुए पेपर में आठ प्रश्न दिए थे, जो कुल 50 अंकों के थे। लेकिन प्रश्न संख्या 6 ने सबका ध्यान ध्यान खींचा। ये प्रश्न था की "क्या आप फासीवाद / नाज़ीवाद और हिंदू दक्षिणपंथी (हिंदुत्व) के बीच कोई समानता पाते हैं? तर्कों के साथ विस्तृत करें"।यह प्रश्न सात अंक का था। इसके बाद तो छात्रों का गुस्सा चरम पर था। कुछ छात्रों द्वारा विश्वविद्यालय के अधिकारियों से शिकायत करने के बाद सहायक प्रोफेसर को निलंबित कर दिया गया था। ट्विटर पर इस सवाल के आने के बाद विश्वविद्यालय ने जांच के लिए तीन सदस्यीय समिति भी बनाई, जिससे हंगामा मच गया।  

शारदा के कार्यवाहक रजिस्ट्रार ने कुछ छात्रों के शुक्रवार को शिकायत दर्ज कराने पर कहा की "विश्वविद्यालय ने सभी प्रश्नों में पक्षपात की संभावना को देखने के लिए वरिष्ठ फैकल्टी के सदस्यों की तीन सदस्यीय समिति का गठन किया है और जब तक जांच नहीं हो जाती, तब तक इस पेपर से संबंधित सदस्य निलंबित रहेगा।"

पेपर में अन्य प्रश्न कुछ इस तरह के शामिल थे की  "राजनीतिक विचारधारा शब्द से आप क्या समझते हैं, रूढ़िवाद को संक्षेप में परिभाषित करें, रूढ़िवाद के मूल विषय क्या हैं, फासीवाद/नाज़ीवाद के मूल सिद्धांत क्या हैं, उदारवादी(Liberalism) विचार के अनुसार राज्य एक आवश्यक बुराई क्यों है , और उदारवाद (Liberalism)के मुख्य विषय क्या हैं?

अब प्रश्न संख्या 6 को मूल्यांकन से वापस ले लिया गया है और इसके द्वारा लिए गए अंकों को अन्य प्रश्नों के साथ समायोजित किया जाएगा। ये बताया जा रहा है की सहायक प्रोफेसर नई दिल्ली में जामिया मिलिया इस्लामिया से राजनीति विज्ञान में पीएचडी कर रहा है। 

एक प्रेस नोट में, विश्वविद्यालय ने इस सवाल पर खेद व्यक्त किया। विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने कहा कि हालांकि सेमेस्टर परीक्षा के प्रश्नपत्र तैयार करने के लिए एक पैनल था, लेकिन मध्यावधि आंतरिक परीक्षाओं के लिए प्रश्न व्यक्तिगत फैकल्टी सदस्यों द्वारा निर्धारित किए गए थे। शारदा के साथ सहायक प्रोफेसर का कॉन्ट्रैक्ट 31 मई को समाप्त होने वाला है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)

#buttons=(Accepted !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top